Thursday, July 25, 2024
HomeChhattisgarhओपीजेयू में 'इनोवेशन एन्ड रिसर्च इन...

ओपीजेयू में ‘इनोवेशन एन्ड रिसर्च इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट’ (ICIRSTSD-23)’  विषय पर दो-दिवसीय ऑनलाइन अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का सफल आयोजन

Banner Advertising


” सतत विकास के लिए शैक्षणिक संस्थाओं को आगे आकर कार्य करना होगा और इसके लिए हर व्यक्ति को शामिल करना होगा। ग्रीन एनर्जी, ग्रीन बिल्डिंग, रियूज, रीसाइकल और संतुलित जीवन शैली से ही सतत विकास संभव हो पायेगा।” – प्रो जी. डी. शर्मा, कुलपति (यूनिवर्सिटी ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी मेघालय)


रायगढ़: ओपी जिंदल विश्वविद्यालय , रायगढ़ के स्कूल ऑफ़ साइंस द्वारा ‘इनोवेशन एन्ड रिसर्च इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट’ (ICIRSTSD-23) विषय पर  25-26 मई 2023 के दौरान आयोजित  दो-दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन सफलतापूर्वक  संपन्न हो गया।   स्कूल ऑफ़ साइंस के इस द्वितीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन  वर्चुअल माध्यम से किया गया।  सम्मलेन के वाइस चेयरमैन और स्कूल ऑफ़ साइंस के एसोसिएट डीन डॉ गिरीश चंद्र मिश्रा   ने बताया की  आज दुनिया में उभरती हुई नई-नई डिजिटल टेक्नोलॉजीज तेजी से विकसित हो रही हैं और समसामयिक आवश्यकताओं के अनुरूप इनोवेशन एन्ड रिसर्च की महत्ता बढ़ती जा रही है।  

इस अंतर्राष्ट्रीय  सम्मलेन का उद्देश्य दुनिया भर से रुचि के क्षेत्र में अग्रणी शोधकर्ताओं, इंजीनियरों और वैज्ञानिकों को एक साथ लाना था। इस सम्मेलन का उद्देश्य वर्त्तमान में टिकाऊ नवाचारों, प्रवृत्तियों, और चिंताओं के साथ-साथ व्यावहारिक चुनौतियों का सामना करने और विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनाए गए समाधानों को प्रस्तुत करने और चर्चा करने के लिए एक प्रमुख अंतःविषय मंच प्रदान करना था I सतत विकास के लिए क्या -क्या प्रयास किये जाना आवश्यक है , इस सम्मलेन की चर्चा का प्रमुख विषय था। अकादमिक और उद्योगों के विशिष्ट वक्ताओं ने अनुप्रयुक्त विज्ञान, हाल की प्रौद्योगिकियों, आपदा प्रबंधन और प्रबंधन एवं मानविकी से संबंधित अन्य क्षेत्रों आदि पर मुख्य रूप से अपने विचार प्रस्तुत किये। इस  सम्मेलन में देश-विदेश से जुड़े 20 प्रमुख वक्ताओं ने अपने विचार रखे तथा 150 से अधिक  शिक्षाविद, विद्वान, इंजीनियरिंग, साइंस और प्रबंधन के शोधकर्ता एवं छात्र प्रतिभागियों के रूप में सम्मिलित हुए।

ओपीजेयू में 'इनोवेशन एन्ड रिसर्च इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट' (ICIRSTSD-23)’  विषय पर दो-दिवसीय ऑनलाइन अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का सफल आयोजन


 
दो दिनों तक चले सम्मलेन के दौरान उदघाटन एवं समापन सत्रों के आलावा चार कीनोट सेसंस  एवं दस तकनीकी-सत्र आयोजित किए, जिसमे प्रमुख वक्तागणों- डॉ किरण बिल्लोरे (प्रोफेसर और प्रमुख, जैव-प्रौद्योगिकी विभाग (मॉडल ऑटोनॉमस कॉलेज, इंदौर), डॉ अशोक कुमार (एसोसिएट प्रोफेसर, एप्लाइड साइंसेज विभाग, राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण और अनुसंधान संस्थान, चंडीगढ़), डॉ प्रशांत मुंडेजा (प्रोफेसर, मैट्स यूनिवर्सिटी, स्कूल ऑफ साइंसेज, रायपुर), डॉ गौतम कुमार पात्रा  (प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष रसायन विज्ञान, भूतपूर्व डीन स्कूल ऑफ फिजिकल साइंसेज, गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय, बिलासपुर), डॉ देबाशीष डे ( प्रोफेसर, कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग, मौलाना अबुल कलाम आज़ाद प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पश्चिम बंगाल), डॉ. ओ. पी. सिखवाल (प्रोफेसर, गणित विभाग, पूर्णिमा इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, जयपुर), डॉ संजीव राणा (उप प्रबंधक, गुणवत्ता आश्वासन/अनुसंधान एवं विकास जिंदल स्टील एंड पावर, रायगढ़, छत्तीसगढ़ ), डॉ अनुज जैन (प्रोफेसर, अनुप्रयुक्त यांत्रिकी विभाग, एमएनएनआईटीए, प्रयागराज), प्रो. पी.के. बाजपेयी (डीन- भौतिक विज्ञान, शुद्ध और अनुप्रयुक्त भौतिकी विभाग, जीजीयू, बिलासपुर), श्री गैरी डे ला पोमेराई(यूएनआईएसडीआर, यूनेस्को, यूएनसीआरडी, काठमांडू के डीआरआर सलाहकार), डॉ. एस. के. सिन्हा (एसोसिएट प्रोफेसर, और प्रमुख, भौतिकी विभाग, बीआईटी मेसरा, पटना कैंपस), डॉ सुशांत सिंह (एसोसिएट प्रोफेसर, एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ बायो-टेक्नोलॉजी, रायपुर), इंजीनियर अवधेश कुमार (सहायक प्रोफेसर, इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी, बरेली, यूपी), डॉ राणा सिंह (निदेशक- सीआईएमपी, पटना), , डॉ रंजन उपाध्याय (सीनियर प्रोफेसर – मैनेजमेंट लर्निंग एंड इनोवेशन, iNURTURE एजुकेशन सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड, बैंगलोर, कर्नाटक), प्रोफेसर ऋचा अरोड़ा (निदेशक, मानविकी और सामाजिक विज्ञान स्कूल, मणिपाल विश्वविद्यालय, जयपुर), डॉ महज़बीन सादरीवाला (सहायक प्रोफेसर, अंग्रेजी विभाग, इमाम अब्दुलरहमान बिन फैसल विश्वविद्यालय, सऊदी अरब) एवं डॉ स्वयंप्रभा सत्पथी (एसोसिएट प्रोफेसर , मानविकी विभाग, शिक्षा ओ अनुसंधान विश्वविद्यालय )  आदि द्वारा सारगर्भित एवं उपयोगी व्याख्यान दिए गए। सम्मलेन के दौरान आयोजित 10 तकनीकी सत्रों में 87 रिसर्च पेपर्स भी पढ़े गए। 
 
25 मई को आयोजित सम्मेलन के उदघाटन समारोह के मुख्य अतिथि प्रो. विनोद कुमार शर्मा (वरिष्ठ प्रोफेसर-डीएम, भारतीय लोक प्रशासन संस्थान और उपाध्यक्ष, सिक्किम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, सिक्किम) थे।  समारोह के आरम्भ में ओपी जिंदल विश्वविद्यालय के कुलपति एवं सम्मेलन के चेयरमैन डॉ आर. डी. पाटीदार   ने सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों का स्वागत किया और इसके उद्देश्यों को बताते हुए कहा की इनोवेशन एन्ड रिसर्च पर आधारित यह सम्मेलन सम्पूर्ण मध्य भारत में एक विशेष  सम्मेलन है, जिसमे अनुप्रयुक्त विज्ञान, कंप्यूटर और संचार प्रौद्योगिकी, डिजास्टर मैनेजमेंट और  इंटर-डिसिप्लिनरी क्षेत्रों मे इनोवेशन,

NewsVibe
NewsVibehttps://newsvibe.in/
NewsVibe.in - Latest Hindi news site for politics, business, sports, entertainment, and more. Stay informed with News Vibe.
RELATED ARTICLES
spot_img

Most Popular